फोन चोरी होने की स्थिति में बैंक विवरण और मोबाइल वॉलेट की सुरक्षा कैसे करें

अपने बैंक और अन्य महत्वपूर्ण विवरणों की सुरक्षा के लिए इन सरल लेकिन महत्वपूर्ण चरणों का पालन करें।

फोन चोरी होने की स्थिति में बैंक विवरण और मोबाइल वॉलेट की सुरक्षा कैसे करें

क्या आप जानते हैं कि चोर इन दिनों आपका मोबाइल फोन हथियाने के बाद सिर्फ एक ही चीज की तलाश में रहते हैं। आपका बैंक विवरण। हमें यह नहीं भूलना चाहिए कि आजकल अधिक से अधिक लोग डिजिटल भुगतान कर रहे हैं और विभिन्न ऐप्स का उपयोग कर रहे हैं। स्मार्टफोन चोरों के लिए इन वॉलेट तक पहुंचना इतना मुश्किल नहीं है। उदाहरण के लिए, ब्राजील के सो पाउलो में अपराधियों ने कथित तौर पर iPhone हैंडसेट बेचने के लिए नहीं बल्कि इन उपकरणों के मालिकों के बैंक विवरण तक पहुंचने और उनके पैसे चुराने के लिए चुराए थे।

इस तरह की घटनाएं सामने आने से सावधान रहना बेहद जरूरी हो जाता है। यदि आप अपना फोन खो देते हैं, तो आप निम्नलिखित तरीकों से अपने फोन या उसके डेटा के दुरुपयोग को रोक सकते हैं।

अपना सिम कार्ड ब्लॉक करें

सबसे पहले और सबसे महत्वपूर्ण यह सुनिश्चित करना है कि फोन खो जाने की स्थिति में फोन नंबर का दुरुपयोग न हो। सिम कार्ड को ब्लॉक करने का मतलब है फोन पर हर उस ऐप को ब्लॉक करना जिसे ओटीपी के जरिए एक्सेस किया जा सकता है। आप हमेशा उसी पुराने नंबर को नए सिम कार्ड पर फिर से जारी करवा सकते हैं। इसमें कुछ समय लग सकता है, लेकिन आपकी गोपनीयता और मोबाइल वॉलेट कहीं अधिक महत्वपूर्ण हैं।

मोबाइल बैंकिंग सेवाएं बंद करें

फोन चोर आसानी से आपके बैंक विवरण तक पहुंच सकते हैं इसलिए उस समय बैंक सेवाओं को रोकना बहुत जरूरी है। आपका सिम कार्ड और मोबाइल ऐप साथ-साथ चलते हैं क्योंकि रजिस्टर्ड नंबर पर ओटीपी के बिना कोई ट्रांसफर नहीं हो सकता है। लेकिन जैसे ही फोन खो जाए या चोरी हो जाए, दोनों को ब्लॉक कर देना चाहिए।

UPI भुगतान निष्क्रिय करें

जरा सी देरी आपको महंगी पड़ सकती है। एक बार जब आप किसी फोन चोर को ऑनलाइन बैंकिंग सेवाओं तक पहुंच से वंचित कर देते हैं, तो चोर यूपीआई भुगतान जैसी अन्य सुविधाओं के साथ छेड़छाड़ करने का प्रयास कर सकता है। इसलिए इस पर भी तत्काल ध्यान देने की जरूरत है। इसे जल्द से जल्द निष्क्रिय कर दें।

सभी मोबाइल वॉलेट ब्लॉक करें

मोबाइल वॉलेट ने जीवन को बहुत आसान बना दिया है। लेकिन अगर आपका फोन गलत हाथों में पड़ जाता है तो गूगल पे और पेटीएम जैसे मोबाइल वॉलेट महंगे साबित हो सकते हैं। संबंधित ऐप के हेल्प डेस्क से संपर्क करें और सुनिश्चित करें कि जब तक आप किसी नए डिवाइस पर वॉलेट को रीसेट नहीं करते हैं, तब तक किसी को एक्सेस नहीं दिया जाता है।

पुलिस के पास जाओ, रिपोर्ट दर्ज करो

एक बार जब आप उपरोक्त सभी चरणों का पालन कर लेते हैं, तो अधिकारियों को अपने चोरी हुए डिवाइस की रिपोर्ट करना भी आवश्यक है। आप नजदीकी पुलिस स्टेशन में फोन चोरी की रिपोर्ट दर्ज करा सकते हैं और उनसे एफआईआर की कॉपी भी ले सकते हैं। अगर आपके फोन का गलत इस्तेमाल होता है या आपके फोन के जरिए आपका पैसा चोरी हो जाता है तो यह कॉपी आपके लिए सबूत के तौर पर काम आएगी।

Post a Comment

और नया पुराने